Advertisement

एनआरआई का फुल फॉर्म क्या होता है | NRI FULL FORM IN HINDI


एनआरआई का फुल फॉर्म क्या होता है | NRI FULL FORM IN HINDI 



एनआरआई का फुल फॉर्म Non-Resident Indian है । इसे हिन्दी में अनिवासी भारतीय कहते है। NRI वह व्यक्ति होता है जो भारत में पैदा हुआ है और भारतीय नागरिक है, लेकिन किसी कारण से दूसरे देश में चला गया है। उसके विदेश में रहने का कारण कार्य, शिक्षा, निवास या कोई अन्य उद्देश्य हो सकता हैं। NRI दूसरे देशों में रहने वाले भारतीय लोग होते हैं। 

NRI की परिभाषा यह हो सकती है , "एक व्यक्ति जो पूरे साल में 182 दिनों से ज्यादा समय तक भारत देश से दूर किसी अन्य देश में रहता है, उसे" गैर-निवासी भारतीय" कहते है। ऐसे व्यक्ति के लिए आयकर की दरें अलग हैं।

NRI के पास भारत का पासपोर्ट होता है और साथ ही भारत की नागरिकता भी होती है। NRI का दूसरा नाम विदेशी या प्रवासी भारतीय भी हो सकता है। यू.एन.ओ में काम करने वाले समस्त भारतीय कर्मचारी और भारत की केंद्र अथवा राज्य सरकारों के द्वारा विदेश में नियुक्त अधिकारियों को अनिवासी भारतीय के रूप में जाना जाता है। Ministry of Overseas Indian Affairs के अनुसार, विदेश में रहने वाले व्यक्तियों में चीन के बाद पूरी दुनिया में भारत का दूसरा नाम है।

NRI FULL FORM IN HINDI = NON-RESIDENT INDIAN ( अप्रवासी भारतीय )


अनिवासी भारतीयों की श्रेणियाँ
1 :- वे भारतीय नागरिक जो व्यवसाय करने, रोजगार के लिए, शिक्षा के लिए या छुट्टियाँ मनाने के लिए विदेशों में रहते हैं।

2 :- वे भारतीय नागरिक जो किसी विदेशी सरकारी एजेंसी जैसे विश्व बैंक, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष, संयुक्त राष्ट्र संगठन,  आदि में विदेशों में कार्यरत हैं।

3 :- भारत के केंद्र सरकार, राज्य सरकार और सार्वजनिक क्षेत्र के अधिकारी जो विदेशों में काम करते हैं। 

किसी भारतीय के एनआरआई बनने के सामान्य कारण
नौकरी और रोजगार के कारण।
व्यावसायिक उद्देश्य के लिए।
किसी प्रशिक्षण के लिए।
भारत के बाहर उच्च शिक्षा।
यात्रा और छुट्टियाँ।
मेडिकल और स्वास्थ्य कारण।

NRI, PIO और OCI के बीच अंतर क्या है?

NRI = NRI को आधिकारिक तौर पर अनिवासी भारतीय या भारतीय मूल के व्यक्ति के रूप में जाना जाता है, भारतीय जन्म, वंश या मूल के लोग हैं जो भारतीय गणराज्य के बाहर रहते हैं।

POI = यह भारतीय मूल का व्यक्ति होते है जो कि एक विदेशी नागरिक होता है। जिनके माता-पिता, दादा-दादी, परदादा-दादी के पास भारत की नागरिकता थी। भारत सरकार ने PIO कार्ड योजना को 15 जनवरी 2015 को  वापस ले लिया और इसे OCIs योजना के साथ मिला दिया।

OCI = ओसीआई एक immigration status है जिसके अनुसार भारतीय मूल के विदेशी नागरिक भारत में रह सकते है, अध्ययन कर सकते है या काम कर सकते है। ओसीआई कार्डधारक किसी भी समय भारत आ सकते हैं और किसी भी समय रह सकते हैं। OCI कार्ड विदेशी नागरिकों को प्रदान किया जाता है जिनके पास पाकिस्तान और बांग्लादेश को छोड़कर किसी अन्य देश का पासपोर्ट होता हैं।

FAQ'S 
1 :- एनआरआई खाते के लिए कौन पात्र है?
ये NRI खाते केवल उन लोगों के द्वारा ही खोले जा सकते हैं जो एक साल में कम से कम 120 दिन भारत देश के अलावा किसी अन्य देश में रहते हैं और भारत में पिछले चार वर्षों में 365 दिनों से भी कम समय व्यतीत करते हैं।

2 :- एनआरआई स्थिति का प्रमाण क्या है?
वैध वीज़ा, वर्क परमिट, प्रवासी निवासी कार्ड की प्रति, एड्रेस प्रूफ - डॉक्यूमेंट पर एड्रेस वैसा ही होना चाहिए जैसा कि एप्लिकेशन फॉर्म में लिखा हुआ है। यह सब एनआरआई स्थिति का प्रमाण है।

3 :- क्या NRI भारत में जमीन खरीद सकता है?
भारतीय रिजर्व बैंक के एक परिपत्र के अनुसार, भारत में किसी भी आवासीय या वाणिज्यिक संपत्ति को खरीदने के लिए अनिवासी भारतीयों को सामान्य अनुमति प्रदान की गयी है। इसके अलावा NRI को भारत में किसी भी कृषि भूमि या वृक्षारोपण संपत्ति की खरीदने का अधिकार नहीं है।

4 :- क्या NRI भारत में कर का भुगतान करता है?
एक निवासी भारतीय के मामले में, व्यक्ति भारत में कर का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होगा, चाहे वे भारत में आय अर्जित करें या विदेश में। हालांकि, एनआरआई या आरएनओआर के लिए, भारत के बाहर अर्जित आय भारत में कर योग्य नहीं है।

5 :- क्या NRI आधार कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते हैं?
हाँ, आवेदन कर सकते हैं। एक एनआरआई जिसके पास वैध भारतीय पासपोर्ट है, (चाहे नाबालिग या वयस्क) वह किसी भी आधार केंद्र पर जाकर आधार के लिए आवेदन कर सकता है। यदि आपके पासपोर्ट में आपके पति या पत्नी का नाम है, तो इसका उपयोग उनके लिए पते के प्रमाण के रूप में किया जा सकता है।  अगर पति या पत्नी एनआरआई है - तो आवेदक का वैध पासपोर्ट पहचान के प्रमाण (पीओआई) के रूप में अनिवार्य है।

इस पोस्ट में हमने NRI FULL FORM IN HINDI, NRI KA FULL FORM, NRI KYA HAI के बारे में हिन्दी में जानकारी दी है। यहां दी गई जानकारी के बारे में अपने सुझाव देने के लिए कमेन्ट जरूर करें।

यह भी पढें 



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ